e-RUPI Kya hai | क्या है e-RUPI | e-RUPI Digital Payment की विशेषताएं

You are currently viewing e-RUPI Kya hai | क्या है e-RUPI | e-RUPI Digital Payment की विशेषताएं

क्या है e-RUPI

भारत देश के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा 2 अगस्त 2021 को इलेक्ट्रॉनिक वाउचर पर आधारित एक डिजिटल पेमेंट सिस्टम ‘e-RUPI’ का लांच किया गया| यह देश की अपनी डिजिटल करेंसी के रूप में भारत का पहला कदम है| ई-रूपी प्लेटफॉर्म एक कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस रहित साधन है जिसका उपयोग डिजिटल भुगतान करने के लिए किया जाएगा। यह एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित ई-वाउचर है आसान भाषा में कहें तो ये प्रीपेड गिफ्ट कार्ड है जिन्हें प्राप्त करने वाला व्यक्ति अपनी सहूलियत के हिसाब से इसका उपयोग कर सकता है।

इस वाउचर को रिडीम करने के लिए किसी डिजिटल पेमेंट ऐप, इंटरनेट बैंकिंग या क्रेडिट या डेबिट कार्ड की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। इस डिजिटल पेमेंट सिस्टम को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया(NPCI) ने अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म पर विकसित किया है। इसमें वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण इन सब का सहयोगी भागीदारी हैं।

यह एक ऐसा माध्यम है जो की e-RUPI के जरिए बिना किसी फिजिकल इंटरफेस के सर्विसेज उपलब्ध कराने वाले को बेनेफिशयरीज व सर्विसेज प्रोवाइडर्स के साथ कनेक्ट कराया जा सकेगा। ई-रूपी वाउचर देश में डिजिटल ट्रांजैक्शन और डीबीटी को बढ़ावा देने में भूमिका निभाएगा| लाभार्थी की पहचान उनके मोबाइल नंबर से किया जायेगा बैंक द्वारा सर्विस प्रोवाइडर को किसी व्यक्ति के नाम का वाउचर सिर्फ उसी व्यक्ति को दिया जाएगा| यदि कोई गैर-सरकारी संस्था किसी को उसकी शिक्षा या मेडिकल इलाज में सहायता करना चाहता है, तो वे कैश देने की जगह ई-रूपी वाउचर प्रदान कर सकता है| इससे यह पता चलेगा कि जो राशि दान दी गई है उस राशि को केवल बताए गए काम के लिए उपयोग किया जा रहा है या नहीं|

e-RUPI Digital Payment

यह एक प्रीपेड ई-वाउचर है| इस डिजिटल पेमेंट प्लेटफार्म को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया(NPCI) द्वारा विकसित किया गया है| e-RUPI एक कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस साधन है| यह एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित ई-वाउचर है, जो लाभार्थियों के मोबाइल पर सीधा भेज दिया जायेगा| जिसे सेवा प्रदाता को भुगतान करने के लिए किसी भी प्रकार के मध्यस्थ की भागीदारी की आवश्यकता नहीं होती है| इसके अतरिक्त, इस प्लेटफॉर्म का उपयोग उन कल्याणकारी योजनाओं के तहत सेवाएं देने के लिए भी किया जा सकता है, जो आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, मां और बाल कल्याण योजना, दवा और निदान, इत्यादि जैसी योजना के तहत सेवा प्रदान करने के लिए किया जा सकता है। इसके अलावा निजी क्षेत्र द्वारा अपने कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी कार्यक्रमों के लिए इन डिजिटल वाउचर का उपयोग किया जा सकता है|

e-RUPI वाउचर कौन जारी करेगा?

इस सिस्टम को नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म बनाया है| इसमें बैंको को शामिल किया गया जो ई-रूपी वाउचर जारी करेंगे| यदि किसी सरकारी या गैर सरकारी एजेंसी को e-RUPI वाउचर जारी करना है तो इनके पार्टनर सरकारी या प्राइवेट बैंको से कांटेक्ट करना होगा| जिस शख्स के पास e-RUPI वाउचर भेजने हैं, उसकी की पहचान मोबाइल नंबर के माध्यम से किया जायेगा| सर्विस प्रोवाइडर को बैंक एक वाउचर प्रदान करेगा जो किसी खास शख्स के नाम पर होगा जो सिर्फ उसी शख्स को मोबाइल नंबर पर e-RUPI वाउचर भेजा जायेगा|

e-RUPI Digital Payment हाइलाइट्स
Article Name e-RUPI Digital Payment Platform
कब लांच हुआ| 2 अगस्त 2021
किसके द्वारा लांच किया गयाभारत सरकार
लाभार्थी कौन होंगे|भारत देश के नागरिक
आधिकारिक वेबसाइट https://www.npci.org.in/
उद्देश्यडिजिटल भुगतान करने के लिए कैशलेस और संपर्क रहित साधन प्रदान करना
e-RUPI Digital Payment की विशेषताएं
  • e-RUPI को NPCI (National Payments Corporation of India) ने अपने UPI प्लेफॉर्म पर डेवेलोप किया है|
  • यह सिस्टम कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस रहित साधन हैं|
  • इस वाउचर को सीधे यूजर्स के मोबाइल पर डिलीवर किया जायेगा|
  • उपयोगकर्ता इस वाउचर को बिना किसी भुगतान ऐप, इंटरनेट बैंकिंग या कार्ड के रिडीम कर पाएंगे|
  • इस प्लेफॉर्म के माध्यम से सेवाओं के प्रायोजक को बेनिफिशरीज और सेवा प्रदाताओं से जोड़ा जाएगा। यह कनेक्टिविटी किसी भी प्रकार के भौतिक इंटरफेस के बिना डिजिटल तरीके से आयोजित किया जाएगा|
  • इस प्लेटफॉर्म के जरिये से सेवा प्रदाता को भुगतान लेनदेन पूरा होने के बाद किया जाएगा|
e-RUPI Digital Payment का उद्देश्य

e-RUPI Digital Payment सिस्टम मुख्य रूप से डिजिटल तरीके से पेमेंट करने का एक साधन है जो कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस रहित साधन है| जिसे आपको वाउचर के रूप में प्रदान किया जायेगा| उपयोगकर्ता इस वाउचर को बिना किसी डिजिटल पेमेंट ऐप, इंटरनेट बैंकिंग या किसी क्रेडिट या डेबिट कार्ड के बिना रिडीम कर पाएंगे। जो भुगतान प्रक्रिया को सरल और सुरक्षित बनाएगा। यह भुगतान प्लेटफॉर्म एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित ई-वाउचर है जिसे लाभार्थी के मोबाइल पर डायरेक्ट भेजा जायेगा।

इसका उपयोग जिसे सेंड किया गया है वे लाभार्थी तय काम के लिए ही कर सकेगा| यदि दवा खरीदने के लिए वाउचर मोबाइल पर भेजा गया है तो उसे दवा खरीदने के लिए ही वे उपयोग कर सकता हैं ना की किसी और चीज के लिए| इस वाउचर का उपयोग होने के बाद जारी करने वाले सर्विस प्रोवाइडर के पास नोटिफिकेशन चला जायेगा की वाउचर का प्रयोग हो गया है|

e-RUPI किन बैंकों में चलेगा?

e-RUPI पर बैंक दो तरीके से काम करेंगे| इसमें से एक बैंक जो e-RUPI वाउचर जारी करेगा और दूसरे बैंक जो इसे स्वीकार करेगा| लेकिन कुछ ऐसे भी बैंक होंगे जो जारी और स्वीकार दोनों करेंगे| e-RUPI के साथ लाइव बैंकों की सूची|

बैंकों का नामIssuerAcquirerAcquiring App
यूनियन बैंक ऑफ इंडियाYesNoNA
भारतीय स्टेट बैंकYesYesYONO SBI Merchant
इंडसइंड बैंक YesNoNA
कोटक बैंकYesNoNA
पंजाब नेशनल बैंक YesYesPNB Merchant Pay
आईसीआईसीआई बैंकYesYesBharat Pe & PineLabs
एचडीएफसी बैंकYesYesHDFC Business App
केनरा बैंकYesNoNA
बैंक ऑफ बड़ौदाYesYesBHIM Baroda Merchant Pay
एक्सिस बैंकYesYesBharat Pe
इंडियन बैंकYesNoNA
जानिए- क्या हैं e-RUPI के फायदे
  • e-RUPI के माध्यम से कल्याणकारी योजनाओं को बिना किसी लीक के डिलीवर किया जायेगा|
  • e-RUPI एक कैशलेस और संपर्क रहित डिजिटल भुगतान प्रक्रिया है|
  • ई-रूपी सेवा प्रायोजकों और लाभार्थियों को डिजिटल रूप से एक साथ जोड़ता है|
  • यह एक क्यूआर कोड या एसएमएस आधारित ई-वाउचर है, जो सीधा लाभार्थियों के मोबाइल पर पहुंचाया जायेगा|
  • इस वाउचर को उपयोगकर्ता कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या इंटरनेट बैंकिंग के उपयोग किए बिना इसे रिडीम कर पाएंगे|
  • इसका उपयोग आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, मदर एंड चाइल्ड वेलफेयर स्कीम्स, टीबी उन्मूलन कार्यक्रम, उर्वरक सब्सिडी, दवाओं और निदान जैसी योजनाओं के तहत सेवा उपलब्ध कराने के लिए भी किया जा सकता है|
  • इस डिजिटल वाउचर का उपयोग निजी क्षेत्र द्वारा अपने कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी कार्यक्रमों के लिए भी किया जा सकता हैं|
डिजिटल करेंसी से किस तरह अलग है e-RUPI

e-RUPI प्लेटफार्म के जरिये सीधे एक मेसेज से पैसे पहुंचने में लगता है की ये डिजिटल करेंसी है| मगर ऐसा नहीं है क्योंकि वाउचर सेंड करने वाला भारतीय रूपये का उपयोग करेगा| इसलिए इसे डिजिटल करेंसी नहीं कहा जायेगा| डिजिटल करेंसी को केवल सेंट्रल बैंक जारी करता हैं| फिजिकल करंसी मतलब रुपए के मुकाबले इसकी वैल्यू में कोई अंतर नहीं होता है| क्योंकि इसकी वैल्यू बराबर होती है जैसे 20 रुपए के नोट और 20 रुपए की डिजिटल करेंसी| डिजिटल करंसी एक कोड के रूप में उपलब्ध होगा| केंद्रीय बैंक RBI डिजिटल करेंसी लाने की योजना पर काम कर रही है|

Leave a Reply